गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस के कार्यो की जमकर प्रशंसा की व उत्कृष्ट कार्यो के लिए पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया।      दिल्ली पुलिस ने अपने पुलिसकर्मियों के लिए इंश्योरेंस कवर बढ़ाया वही शहीद होने व दुर्घटना होने पर कई गुना दिया जाएगा- आयुक्त एसएन श्रीवास्तव       पूर्वी जिला पुलिस न्यू अशोक नगर थाने ने एक ब्लाइंड मर्डर केस में 2 आरोपी हथियार सहित गिरफ्तार किये ।       पूर्वी दिल्ली जिला पुलिस ने 6 रोहिंग्या को गिरफ्तार किया।      दिल्ली में फिर खुलेंगे स्पा सेंटर उच्च न्यायालय ने शर्तो के साथ स्पा सेंटर खोलने का आदेश दिया।      सीबीआई के निदेशक ऋषि कुमार शुक्ला का कार्यकाल अगले महीने समाप्त होने पर कई वरिष्ठ आईपीएस प्रबल दावेदार बने।      ये क्या हो रहा है सीपी साब... सीबीआई ने भजनपुरा थाने में तैनात दिल्ली पुलिस के हवलदार संजीव कुमार को रिश्वत लेते पकड़ा।       निर्माणाधीन इमारत के बेसमेंट की खुदाई के दौरान मिट्टी में दबकर मजदूर की मौत,पुलिस ने लापरवाही का मामला दर्ज किया ।      पालिका परिषद ने सार्वजनिक स्थानों पर पोस्टर, बैनर और अवैध होर्डिंग्स हटाने के लिए अभियान चलाया।      दिल्ली पुलिस में तैनात सब इंस्पेक्टर के बेटे ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या की l      बुलंदशहर जहरीली शराब कांड ने छह की जान ली कई अब भी कई गंभीर हालात में,आरोपी दिल्ली से पकड़ा I       ईस्ट एमसीडी ने बेलदार संजय कौशिक को अवैध निर्माणों से वसूली करने के आरोप में निलंबित किया,भवन विभाग के असली मास्टरमाइंड कमिश्नर, डीसी,सुपरिंडेंटेंट इंजीनियर,अधिशासी अभियंता(बिल्डिंग) होते है, जांच एजेंसिया इनपर शिंकजा कसेI       तारीख पर तारीख,आज भी बेनतीजा रही नए कृषि कानून पर किसानों और सरकार की बैठक,15 जनवरी को होगी अगली वार्ता I       पूर्वी दिल्ली थाना शकरपुर ने नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले दो शातिर ठगो को महिला सहित गिरफ्तार किया ।      पीसीआई के फर्स्ट फाऊंडेशन डे व सम्मान समारोह का सफलतापूर्वक आयोजन हुआ।       दिल्ली पुलिस आयुक्त ने पुलिसकर्मियों का मनोबल बढ़ाने के लिए कई कारगर योजनाओं को शुरू किया वही 135 कर्मियों को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया।       पूर्वी जिला पुलिस ने 500 से अधिक हाई व लग्जरी कारों की चोरी में शामिल अन्तर्राजीय ऑटो-लिफ्टर वसीम गैंग के तीन लुटेरों को 15 लग्जरी गाड़ियों के साथ पकड़ा।      बीजेपी के 2500 करोड़ के घोटाले में बीजेपी के मेयर जय प्रकाश के घर मे आप का धरना प्रदर्शन।      ईस्ट दिल्ली नगर निगम की बैठक में पार्षदों के बीच दना दन जूते और चप्पल चले,दोनों पक्षों ने पुलिस में शिकायत की ।      बिंदापुर थाने के स्टाफ ने एक शातिर लुटेरे और दो तड़ीपार को अलग अलग मामलो में गिरफ्तार किया ।     

( 09/10/2014)  (Pradeep Mahajan) संजीव चतुर्वेदी को क्यों हटाया मोदी ने हर्षवर्धन से मांगा जवाब

 

नई दिल्ली। एम्स के सीवीओ संजीव चतुर्वेदी को पद से हटाने के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हेल्थ मिनिस्टर डॉ. हर्षवर्धन से फोन पर चर्चा की और उनसे विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। इसके बाद हेल्थ सेक्रेटरी ने प्रधानमंत्री कार्यालय के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा, अतिरिक्त प्रधान सचिव पी. के. मिश्रा और कैबिनेट सचिव अजीत सेठ को पांच पन्नों की रिपोर्ट सौंपी है। सूत्रों का कहना है कि इस मामले में प्रधानमंत्री को भी पूरी जानकारी नहीं दी गई है। कई तथ्यों को छिपाया गया है।

प्रधानमंत्री और हेल्थ मिनिस्टर के बीच संजीव चतुर्वेदी को लेकर हुई बातचीत और उन्हें सौंपी गई रिपोर्ट की कॉपी एनबीटी के पास है। इसमें कहीं भी बीजेपी के महासचिव जे पी नड्डा का नाम नहीं है, जबकि हेल्थ मिनिस्ट्री के रिकॉर्ड से साफ है कि नड्डा पिछले एक साल से संजीव को सीवीओ पद से हटाने के लिए लेटर लिख रहे थे। नड्डा ने इस बारे में अंतिम लेटर डॉ हर्षवर्धन को हेल्थ मिनिस्टर बनने पर 25 जून को लिखा था, जिसमें उन्होंने संजीव को सीवीओ के पद से हटाने के साथ-साथ अपनी पसंद के नए सीवीओ लाने, संजीव को उनके कैडर वापस भेजने और संजीव के द्वारा शुरू की गई जांचों को रोकने की मांग की थी। इस लेटर के बाद ही मिनिस्ट्री ने संजीव को हटाने का प्रस्ताव लाया।



तीन महीने पहले जिस हेल्थ सेक्रेटरी ने नड़्डा के लेटर के बाद 23 मई 2014 को यह निर्णय लिया था कि संजीव की नियुक्ति में सारी कानूनी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं, उन्होंने ही पीएमओ को अपनी रिपोर्ट में संजीव को हटाने का पुरजोर समर्थन किया है। हेल्थ सेक्रेटरी ने लिखा है कि संजीव की नियुक्ति को एम्स की जीबी और आईबी से अप्रूवल नहीं थी जबकि उन्होंने 23 मई को अपनी फाइल पर लिखा है कि संजीव की नियुक्ति को जीबी की 144वीं मीटिंग नवंबर 2010 और आईबी की 144वीं मीटिंग जनवरी 2012 में अप्रूवल मिल चुका है।
रिपोर्ट में पीएमओ को अधूरी जानकारी दी गई है जिसमें यह भी कहा गया है कि संजीव को एम्स के सीवीओ के अतिरिक्त प्रभार से मुक्त किया गया है, जबकि इंस्टिट्यूट द्वारा 7 जुलाई 2012 को जारी नियुक्ति लेटर में स्पष्ट लिखा है कि सीवीओ का कार्यभार ही उनका मुख्य काम होगा और बाकी काम अतिरिक्त प्रभार होगा। सूत्रों का कहना है कि जिस फाइल के पेज नंबर 67 पर हेल्थ सेक्रेटरी ने जे पी नड्डा की सारी बातें खारिज की हैं, उसी फाइल के पेज नंबर 71 पर नड्डा की मांगों का समर्थन करते हुए संजीव को हटा दिया गया। सवाल है कि मोदी के हस्तक्षेप के बाद भी क्या संजीव को हटाने के पीछे की वजह का पर्दाफाश होगा या समय के साथ बात ऐसे ही दब जाएगी?

Back