दिल्ली के दिल कनॉट प्लेस में पूर्व सांसद जय प्रकाश अग्रवाल और प्राचीन हनुमान मंदिर के महंत सुरेश शर्मा ने वर्तमान राजनीति पर चाय पर चर्चा की।       रेडिक्स ब्यूटी द्वारा अहमदाबाद में मेकअप इंडस्ट्री से जुड़े दो दर्जन से अधिक लोगो को अवार्ड देकर सम्मानित किया, आयोजक विक्की शर्मा ने कहाकि उनका अगला कार्यक्रम राजधानी दिल्ली में होगा।       एनसीसी महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल गुरबीरपाल सिंह, मेजर जनरल आर के माथुर और एचएमआई दार्जिलिंग के प्रधानाचार्य ग्रुप कैप्टन जय किशन समेत 23 पूर्व कैडेटों को मिलेगा एनसीसी अचीवर्स अवार्ड- 2022       केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने आज नई दिल्ली में आयोजित देश के पर्यटन और संस्कृति मंत्रियों के सम्मेलन, “अमृत समागम”, का शुभारंभ किया।             केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने अटल इनोवेशन मिशन के विस्तार को मंजूरी दी,10,000 अटल टिंकरिंग लैब; 101 अटल इन्क्यूबेशन सेंटर; 50 अटल कम्युनिटी इनोवेशन सेंटर स्थापित किए जायेंगे।       दिल्ली के गैंगस्टरों को हथियार सप्लाई करने वाला,और दिल्ली में 2020 में हुए दंगों के दौरान पुलिस पर पिस्टल तानने वाले आरोपित शाहरुख को हथियार देने वाले आर्म्स डीलर बाबू वसीम को दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने धर-दबोचा।       द्वारका पुलिसकर्मियों को राहत...... जस्टिस योगेश खन्ना ने द्वारका मुठभेड़ मामले में पुलिस अधिकारियों पर एफआईआर दर्ज करने के आदेश पर रोक लगाई,पुलिस ने निचली कोर्ट के आदेश को चुनौती देते हुए याचिका में कहाकि इससे पुलिस का मनोबल टूटेगा।       दिल्ली पुलिस के मुखिया राकेश अस्थाना ने पुलिस मुख्यालय परिसर में नॉलिज सेंटर का उद्घाटन किया, सेंटर में कानून, फोरेंसिक, प्रौद्योगिकी, आंतकवाद विषयों से संबंधित 3000 से अधिक पुस्तकें उपलब्ध है।       दिल्ली के 178 थानों में चल रहे ई चिटठा सिस्टम के बाद अब सभी 67 ट्रैफिक सर्किलों में ई-चिट्ठा सिस्टम शुरू हो गया है जिसमे ट्रैफिक कर्मियों की ड्यूटी ऑटोमैटिक तरीके से लगेगी।       फ़ोर्ब्स ने जारी की दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची, पहले नंबर पर एलन मस्क,10वे पर मुकेश अंबानी और 11वे पर अडानी।       थाने वालो की शराब माफिया ,गांजा डीलरों, नशे के सौदागरों से अवैध वसूली वाली लिस्ट वायरल हुई, पुलिस विभाग में मचा हड़कंप,आलाअधिकारियों ने जांच के आदेश दिए।       राष्ट्रीय कैडेट कोर के एडीजी और डीडीजी का दो दिवसीय सम्मेलन नई दिल्ली में शुरू हुआ,एनसीसी का विस्तार करने की सरकार की योजना का शीघ्र कार्यान्वयन बैठक के एजेंडे में शामिल।       दिल्ली की अदालत ने ''घुटने में गोली मारने'' के आरोप में 3 पुलिस अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया,पुलिस को चेताया कि "आप कभी भी इतने ऊंचे बनो, कानून आपके ऊपर है।"      केंद्रीय युवा कार्य एवं खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने डोपिंग निरोधक परीक्षण को सशक्त करने के लिए नई दुर्लभ रासायनिक सामग्रियों को लॉन्च किया,इस विकास से भारत डोपिंग निरोधक विज्ञान में आत्मनिर्भर हो जाएगा।       कमिश्नर साब ने अपनी श्रीमती जी की टीम को हराया..... पुलिस परिवार कल्याण सोसायटी के गोल्डन जुबली कार्यक्रम में सीपी इलेवन और पीएफडब्ल्यूएस इलेवन के बीच मैत्रीपूर्ण क्रिकेट मैच हुआ।       रेलवे सुरक्षा बल ने ऑपरेशन उपलब्ध के तहत रेलवे टिकट दलालों के खिलाफ देशव्यापी अभियान चलाया,जिसमे 1459 टिकट दलालों को गिरफ्तार किया और 366 आईआरसीटीसी एजेंट की आईडी और 6751 व्यक्तिगत आईडी को ब्लॉक किया।       केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उपस्थिति में असम और मेघालय के मुख्यमंत्रियों ने अंतरराज्यीय सीमा विवाद के निपटारे के लिए ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किए, गृह मंत्री ने कहा कि आज का दिन एक विवादमुक्त नॉर्थईस्ट के लिए ऐतिहासिक दिन है।       राष्ट्रीय महिला आयोग ने दिल्‍ली राज्‍य विधिक सेवाएं प्राधिकरण (डीएसएलएसए) के सहयोग से कानूनी सेवा क्लिनिक शुरू किया, इसमें पीड़ित महिलाओं को निशुल्‍क कानूनी सहायता और परामर्श उपलब्‍ध कराया जाएगा।       भारत सरकार गृह मंत्रालय ने तीन आईपीएस पुलिस अधिकारियों की ट्रांसफर/पोस्टिंग की     

( 07/06/2021)  विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस 2021 पर विशेष ....... क्या हमारा भोजन पर्याप्त सुरक्षित है-असीम सान्याल ( INSMEDIA.IN )

 
 

विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस 2021 पर विशेष ....... क्या हमारा भोजन पर्याप्त सुरक्षित है-असीम सान्याल

(आईएनएस मीडिया) खाद्य सुरक्षा सरकारों, उत्पादकों और उपभोक्ताओं के बीच एक साझा जिम्मेदारी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस वर्ष की वैश्विक थीम ‘स्वस्थ कल के लिए आज का सुरक्षित भोजन’ है। उपभोक्ताओं के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और भूखमरी को समाप्त करने के लिए, संयुक्त राष्ट्र के 17 मुख्य सतत विकास लक्ष्यों में से ये दो लक्ष्य प्रमुख हैं। हम जो भोजन खाते हैं उसे हर उस व्यक्ति के समर्पित प्रयासों के माध्यम से सुरक्षित रखा जाता है जो इसे उगाता है, संसाधित करता है, परिवहन से लेकर स्टोर तथा मार्केट में बेचने तक है। आर्थिक विकास, बढ़ती आय और शहरीकरण ने भारतीयों की खाने की आदतों को प्रभावित किया है। खाद्य विकल्पों में अधिक विविधता की मांग बढ़ रही है और भारतीय खाद्य गुणवत्ता और सुरक्षा के बारे में अधिक चिंतित हो रहे हैं।खाद्य जनित रोगों के 2015 के वैश्विक अनुमानों के अनुसार, “खाद्य जनित रोगों का जोखिम निम्न और मध्यम आय वाले देशों में सबसे गंभीर है, जो असुरक्षित पानी से भोजन तैयार करने से जुड़ा है, खाद्य उत्पादन और भंडारण में खराब स्वच्छता और अपर्याप्त स्थिति, साक्षरता और शिक्षा का निम्न स्तर और अपर्याप्त खाद्य सुरक्षा कानून या ऐसे कानून का कार्यान्वयन। 
खाद्व जनित रोगों का आर्थिक बोझ....... 
2019 की विश्व बैंक की एक रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि भारत में असुरक्षित खाद्य लागत सालाना 15 बिलियन डॉलर थी, भले ही यह 2018 में अनुमानित 28 बिलियन डॉलर से लगभग आधी हो गई, जो खाद्य जनित बीमारियों के कारण होने वाले अनावश्यक रूप से उच्च आर्थिक बोझ को रेखांकित करती है।इसलिए सरकार को खाद्य सुरक्षा की अधिक प्रभावी निगरानी के लिए आवश्यक प्रासंगिक संस्थागत और मानव संसाधनों के विकास पर भी अधिक ध्यान देना चाहिए। एफएसएसएआई (भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण) एक राष्ट्रीय मानक स्थापित करता है, लेकिन प्रशासन (लाइसेंस सहित, गैर-अनुपालन के लिए अभियोजन, आदि) राज्य स्तर पर किया जाता है। खाद्य सुरक्षा कानूनों की व्यापकता और विवरण की तुलना में, खाद्य सुरक्षा कानूनों को लागू करने और लागू करने के लिए आवश्यक खाद्य प्रयोगशालाओं की उपलब्धता और पहुंच क्षेत्र के अनुसार काफी भिन्न होती है। खाद्य सुरक्षा को प्रशासित करने के लिए आवश्यक ज्ञान और अनुभव वाले बहुत कम विशेषज्ञ हैं।
एक प्रणाली-आधारित दृष्टिकोण खाद्य सुरक्षा को उनकी सुरक्षित उपलब्धता के साथ सुनिश्चित कर सकता है, स्थायी प्रथाओं के माध्यम से पर्यावरण की देखभाल के साथ-साथ एक स्वस्थ आहार को बढ़ावा दे सकता है। नागरिकों को स्वस्थ और पौष्टिक भोजन चुनना चाहिए और खाद्य उद्वोग को उसका निर्माण और आपूर्ति करनी चाहिए। अक्सर, वैश्विक स्तर पर, उपभोक्ता समूहों और हितों की संगठित लामबंदी की कमी से जुड़े खाद्य सुरक्षा मामलों के बारे में उपभोक्ताओं में जागरूकता की कमी होती है।
“खाद्य कानून” उस कानून पर लागू होता है जो भोजन के उत्पादन, व्यापार और हैंडलिंग को नियंत्रित करता है और इसलिए पशु आहार के प्रावधान से लेकर संपूर्ण खाद्य श्रृंखता में खाद्य नियंत्रण, खाद्य सुरक्षा, गुणवत्ता और खाद्य व्यापार के प्रासंगिक पहलुओं के विनियमनन को शामिल करता है। दूध और सब्जियों में इन मानकों का एक विस्तृत मूल्यांकन इंगित करता है कि जहां सभी नियामक मानदंड कोडेक्स एलिमेंटेरियस कमीशन (एफएओ) के अंतरराष्ट्रीय मानकों पर आधारित हैं, वहीं खाद्य आपूर्तिकर्ताओं के लिए सभी अनिवार्य नियमों का पालन करना मुश्किल है और ग्राहकों के लिए खाद्य लेबललिंग में अंतर समझना मुश्किल है। 
भारत में खाद्य विनियम
भारत में विभिन्न खाद्य विनियमों को मोटे तौर पर वर्गीकृत किया जा सकता है- लाइसेंसिंग और पंजीकरण, पैकेजिंग और लेबलिंग, खाद्य मानक, खाद्य योजक, संदूषक और विषाक्त पदार्थ, निषेध और प्रतिबंध, प्रयोगशाला नमूनाकरण और विश्लेषण। जबकि भोजन की उपलब्धता और आहार की पोषण संबंधी पर्याप्त से संबंधित मुद्दों को संबोधित किया जा रहा है, विकासशील देशों में खाद्य सुरक्षा के मुद्दों के बारे में जन जागरूकता नाटकीय रूप से बढ़ी है। 
एफएसएसएआई ने भारत में भोजन की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए पैकेजिंग और लेबलिंग मानदंडों, रेस्तरां और स्ट्रीट फूड के साथ-साथ निरीक्षण  और खाद्य उत्पादों के नमूने सहित कई उपाय किए हैं।  
भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार लाने और जीवन शैली की बीमारियों से लड़ने के लिए नकारात्मक पोषण संबंधी प्रवृत्तियों का मुकाबला करने के लिए, एफएसएसएआई ने 10 जुलाई 2018 को ‘द ईट राइट मूवमेंट’ शुरू किया। ईट राइट इंडिया आंदोलन सभी भारतीयों के लिए सुरक्षित, स्वस्थ ओर टिकाऊ भोजन सुनिश्चित करने के लिए देश की खाद्य प्रणाली को बदलने के लिए भारत सरकार और भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) की एक पहल है। स्वस्थ वजन पर रहने और ऊर्जा संतुलन बनाए रखने के लिए सही भोजन करना महत्वपूर्ण है, आप जो खाते हैं और पीते हैं उसमें कैलौरी और चलते समय आपके द्वारा जलाई जाने वाली कैलोरी के बीच संतुलन। 
खाद्य सुरक्षा में सुधार के उपाय
ईट राइट इंडिया मूवमेंट के लक्ष्य मोटे तौर पर हैं- 2022 तक भारत को ट्रांस-फैट मुक्त भारत बनाएं, भारत के नमक की खपत को कम करें, दैनिक आहार में चीनी का सेवन कम किया जाना चाहिए और तेल की खपत को ट्रैक और कम किया जाना चाहिए।
भारतीय नीति-निर्माता वसा, सोडियम और चीनी में उच्च प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों की बढ़ती खपत को कम करने की कोशिश कर रहे हैं। एचएसएसएफ के साथ  प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों की खपत को हतोत्साहित करने के लिए फ्रंट-ऑफ-पैक पोषण लेबलिंग को व्यापक रूप् से एक शक्तिशाली और सरल उपकरण माना जाता है। एफएसएसएआई सिंबल आधारित फ्रंट-ऑफ-पैक चेतावनी लेबलिंग को लागू करने पर विचार कर रहा है, जिसे वे अनिवार्य बनाना चाहते हैं।  
प्रस्तावित एफओपीएल विनियमन के अनुसार, यदि कैलोरी, वसा, चीनी और नमक की कुल मात्रा निर्धारित सीमा से अधिक है, तो इसे लाल रंग में दर्शाया जाएगा। हालांकि, प्रसतावित लेबलिंग प्रारूप के संबंध में कुछ चिंताएं हैं। उम्मीद है कि यह वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं के अनुरूप होगा। सुरक्षित खाद्य पदार्थों के संदर्भ में, समय के साथ परिभाषा बदल गई है और इसी तरह एनसीडी के उदय के साथ स्वास्थ्य के मुद्दों पर उपभोक्ता जागरूकता भी आई है।
(लेखक कंस्यूमर वॉयस में सीओओ हैं।)

Back