दिल्ली में कोरोना मरीजो की नही थमी रफ़्तार एक दिन में 1320 नये मामले वहीं देश भर में कोरोना मरीजो का आंकड़ा 236657 पहुचा।      दिल्ली में कोरोना के 1330 नये मामले एक दिन में आए,भारत में 2,26,770 कोरोना मरीजो का आंकड़ा पहुचा।      पालिका परिषद ने कोरोना पीड़ित कर्मचारियों की सुविधा के लिए "स्टाफ वेलफेयर सेल" और कोर ग्रुप" का गठन किया ।      गृह मंत्रालय द्वारा बुलाई गई जेसीए बैठक में अगर सीपी श्रीवास्तव की चली तो कई टॉप AGMUT कैडर के आईपीएस अधिकारी दिल्ली पुलिस से ट्रांसफर होंगे और पसन्द के अधिकारियों को दिल्ली में लाया जाएगा।      राजधानी दिल्ली में एक दिन में 1359 कोरोना के केस आये दिल्ली में कोरोना मरीजो का आंकड़ा 25 हजार के पार,देश मे भी नही थम रही रफ़्तार आंकड़ा 2,16,919 पर पहुचा।      एक दिन में 1513 मरीज आने से हड़कंप, दिल्ली में अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा,भारत मे कुल 207,615 कोरोना मरीज हुए।      पालिका परिषद द्वारा कमर्शियल बिल्डिंग्स, अन्य कार्यालयो, भवनों और मुख्यालय - पालिका केंद्र के लिए युद्ध स्तर पर सैनिटाइजेशन अभियान शुरू किया।       दिल्ली में कोरोना के एक दिन में रिकॉर्ड 1298 मरीज,भारत मे 2 लाख के करीब कोरोना मरीजो का आंकड़ा पहुचा।      बहुचर्चित जेसिका लाल मर्डर के आरोपी मनु शर्मा को जेल से रिहा किया गया। सीपी डडवाल के लड़के से झगड़ा करने पर एक बार पैरोल भी कैंसिल हुई थी।      सीबीआई ने छापा मारकर रशियन चाइल्ड यौन शोषण वाली वेबसाइटों को चलाने वाले पकड़े।      दिल्ली में 24 घण्टो में 990 कोरोना केस आये, 21 हजार के करीब आंकड़ा हुआ। देश भर मे 1,90,535 मरीज हुए।      देश की राजधानी दिल्ली में एक दिन में कोरोना मरीजो की बेतहाशा वृद्धि ,करीब 1300 मरीजो के साथ आंकड़ा 20 हजार के करीब हुआ। देश मे 182143 मरीज हुए।      दिल्ली पुलिस ने खोए दो दिनों में अपने दो जांबाज अधिकारी, कल ASI शेष मणि के बाद आज ASI विक्रम यादव की मौत।      केजरीवाल सरकार ने केंद्र सरकार से 5000 करोड़ रुपये मांगे कहा कर्मचारियों को सैलरी देने का संकट है।      दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच में तैनात असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर की कोरोना से मौत।      महंत सुरेश शर्मा सहित सभी सन्त महात्माओं ने धार्मिक स्थलों को खोलने के फैसले का स्वागत किया।      दिल्ली में नही रुकी रफ्तार आज 1163 केस सामने आए,भारत मे पौने दो लाख के करीब मरीज हुए।      निकाह के लिये पूर्व निगम पार्षदा इशरत जहां को मिली अंतरिम जमानत।      नही थमी दिल्ली में रफ्तार, एक दिन में 1106 कोरोना केस आये,भारत मे 1,65,799 कोरोना मरीज हुए। संक्रमित देशों की सूची में भारत नौवें स्थान पर ।      दिल्ली में कोरोना के 1024 नए केस आने से हड़कंप, देश भर में कोरोना के 1,58,333 मरीज हुए।     

( 07/05/2020)  (Pradeep Mahajan) ये क्या हो रहा है कमिश्नर साब.. दिल्ली पुलिस योद्धा का हुआ अंतिम संस्कार लेकिन पीछे छोड़ गया सरकारी दावों की पोल।

 

ये क्या हो रहा है कमिश्नर साब.. दिल्ली पुलिस योद्धा का हुआ अंतिम संस्कार लेकिन पीछे छोड़ गया सरकारी दावों की पोल।

अभी कुछ देर पहले दिल्ली पुलिस के होनहार व जांबाज सिपाही अमित राणा का अंतिम संस्कार किया गया । अपने फर्ज को निभाते हुए यह योद्धा कॉरॉना के खिलाफ लड़े जा रहे युद्ध में शहीद हो गया । क्या हम लोगो को इनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना कर के उन्हे श्रद्धांजलि दे के चुप हो जाना चाहिए ?मामला इतना सरल नहीं है जितना उपरोक्त चार पंक्तियों से प्रतीत हो रहा है । हमारे कितने ही भाई बहन सम्बन्धी, मित्रगण, प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इस समय कोरोना के खिलाफ लड़े जा रहे इस युद्ध में लड़ते हुए अपना फर्ज निभा रहे हैं तथा कितनों ने ही इस लड़ाई में अपना बलिदान दिया है। किन परिस्थितियों में ये लोग अपना काम कर रहे है  तथा किन  परिस्थितियों में इन्होंने अपना बलिदान दिया है यह चीजें आम जनता तक  शायद ही पहुंच पाई है।
 अभी मैंने अमित राणा के अंतिम समय में जो दोस्त उनके साथ उनकी टेलीफोन पर हुई वार्ता की रिकॉर्डिंग सुनी। हम सोच भी नहीं सकते कि उन्होंने किन परिस्थितियों में अपनी जान की परवाह ना करते हुए कांस्टेबल अमित राणा की की जान बचाने की भरसक कोशिश की । अमित राणा को उनके साथी एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक लेकर भागते रहे  पर किसी भी हॉस्पिटल में उन्हे दाखिला नहीं मिला, यहा तक कि अमित राणा के  लिए कोई एम्बुलेंस तक नहीं उपलब्ध कराई गई तथा उनके साथी अपनी जान की परवाह ना करते हुए अपनी खुद की गाड़ी में वह अमित को लेकर एक हस्पताल से दूसरे अस्पताल तक भागते रहे।
 यह बड़े दुख का विषय है कि कॉरोना  के खिलाफ इस लड़ाई में हमारे सुरक्षा बल, स्वास्थ्य विभाग , दिल्ली पुलिस व नगर निगम के कर्मचारी अपने जान की परवाह ना करते हुए अपना कर्तव्य निभा रहे हैं । दूसरी तरफ उन्हें अगर कुछ हो जाता है तो तमाम सरकारी दावों के बावजूद आज भी उनके इलाज की कोई भी सुचारू व्यवस्था कम से कम इस मामले में तो नजर नहीं आई । अमित राणा को लेकर सबसे पहले उनके साथी उन्हे शायद हैदरपुर स्थित किसी करोना सेंटर में लेकर गए परंतु वहां पर कोई भी चिकित्सीय सहायता उन्हे नहीं मिली तत्पश्चात वे उन्हें लेकर डॉक्टर अंबेडकर हॉस्पिटल गए जोकि दिल्ली के काफी बड़े सरकारी हॉस्पिटल में से एक है परंतु वहां भी उन्हें यथोचित स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध नहीं कराई गई इसके बाद वे उन्हें लेकर तीसरे हॉस्पिटल दीपचंद बंधु हॉस्पिटल अशोक विहार  गए  जहां पर उन्हे केवल उनका कोरोना टेस्ट ही किया गया तथा  उन्हे दाखिल ना करके घर ले जाने की सलाह डॉक्टर द्वारा दी गई । उसके बाद इनके साथी उन्हे एलएनजेपी हॉस्पिटल लेकर गए जहां पहुंचने से पहले ही उनकी मौत हो गई। उपरोक्त सारे प्रकरण से स्पष्ट है कि अमित राणा की मौत स्पष्ट रूप से चिकित्सीय सहायता ना मिलने से हुई है । टेस्ट की रिपोर्ट आने तक उनको दाखिल ना करना, इलाज शुरू ना करना गंभीर खामियों को उजागर करता है । शायद उनको सही समय पर चिकित्सीय सहायता मिल जाती तो शायद उनको बचाया जा सकता था । अभी भी अगर किसी सरकारी कर्मचारी को कोरोना का संक्रमण हो जाता है तो उसे उचित समय पर चिकित्सीय सहायता उपलब्ध हो जाएगी या उसे समय पर किसी हॉस्पिटल में दाखिल कर लिया जाएगा इस बात की कोई गारंटी नहीं है। जब कोई सरकारी कर्मचारी इस प्रकार की परिस्थितियों में जहा इस समय जीवन और मरण का कोई भी भरोसा नहीं है डयूटी करता है तो उसे यह विश्वास होता है कि सरकार और उसका विभाग उसके साथ खड़ा है तथा अगर उसे कुछ हो जाता है या आवश्यकता होने पर यह लोग अवश्य उसके लिए कुछ ना कुछ करेंगे । इसी भरोसे के साथ वह वर्दी पहने हुए सैकड़ों की भीड़ के सामने अकेला खड़ा हो जाता है । इसी भरोसे के साथ एक सफाई कर्मचारी एक प्लास्टिक का कवर पहनकर संक्रमित वार्ड के अंदर सफाई करने के लिए मौत के मुंह में प्रवेश कर जाता है । परंतु अगर उन्हें आपातकाल में उचित समय पर चिकित्सीय या मानवीय सहायता नहीं मिलती है तो निश्चित रूप से उनका मनोबल प्रभावित होता है तथ भरोसा भी टूटता है ।
सरकार से विनती है की इस पूरे प्रकरण की जांच करा कर यह सुनिश्चित करें की इस पूरे घटनाक्रम में क्या क्या कमिया रही कहां कहां चूक हुई और सरकार के प्रयासों में अभी और क्या-क्या किया जाना बाकी है ताकि हम भविष्य में अपने जवानों तथा कर्मचारियों व अधिकारियों को इस आपातकाल में उचित चिकित्सीय सहायता उपलब्ध करा सकें ताकि किसी और अमित राणा को हमें खोना ना पड़े । याहिगर हम ऐसा कर सके तो यही उनके लिए हमारी श्रद्धांजलि होगी। साभार-
मंजीत राणा की वाल से--

Back