200 मामलों में शामिल 4 स्टेटस में वांटेड डॉन रवि पुजारी गिरफ्तार।अफ्रीका से भारत लाया गया।      दिल्ली पुलिस ने पत्रकारों से जीती मुरली ट्रॉफी।      दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने एनकाउंटर में मार गिराए दो बदमाश।      केजरीवाल ने तीसरी बार दिल्ली के सीएम पद की शपथ ली।      शांति व्यवस्था बनाये रखने के पुलिस किसी जाति,धर्म को नही देखती-अमित शाह।      सीबीआई ने डिप्टी सीएम के ओएस डी गोपाल कृष्ण को 2 लाख की घूस लेते गिरफ्तार किया।      सुबोध जायसवाल बन सकते है दिल्ली पुलिस के नए आयुक्त, सर्वसम्मति नहीं तो पैनल बनेगा।      योगी सरकार ने नोएडा के SSP वैभव कृष्ण को निलंबित किया।      (insmedia.org)दिल्ली पुलिस के एक ASI को भारी पड़ा एक महिला को ये कहना कि "तेरी लिपस्टिक बड़ी अच्छी है" माफी मांगी तो जान छूटी।      निर्भया केस- कोर्ट ने जारी किया डेथ वॉरंट,22 जनवरी की सुबह 7 बजे होगी चारों रेपिस्टों को फांसी।      दिल्ली की जनता हेवीवेट उम्मीदवार को ही हराती है, जनता की नब्ज पहचानो।      जामिया प्रकरण में पुलिस ने छापेमारी करके 10 लोगों को गिरफ्तार किया जिनमें से 3 लोग पुलिस के घोषित अपराधी       RTI, से ब्लैकमेलिंग करने वालो पर लगाम कसे-सुप्रीम कोर्ट      प्रेस क्लब ऑफ इंडिया का चुनाव।      दिल्ली पुलिस कर्मी ने अपनी सर्विस पिस्टल से खुद को उड़ाया।      डॉ वालिया आज भी जनता के दिलो में बसते हैं।      सोनिया, राहुल,प्रियंका की सुरक्षा से हटाई एसपीजी।      आईएएस धर्मेंद्र बने NDMC के नए चेयरमैन।      दिल्ली पुलिस को मिला आधुनिक तकनीक से युक्त नया हेडक्वार्टर।      अमित शाह करेंगे कल नए दिल्ली पुलिस मुख्यालय का उद्घाटन।     

( 17/12/2019)  (Pradeep Mahajan) RTI, से ब्लैकमेलिंग करने वालो पर लगाम कसे-सुप्रीम कोर्ट

 
RTI, से ब्लैकमेलिंग करने वालो पर लगाम कसे-सुप्रीम कोर्ट

RTI, से ब्लैकमेलिंग करने वालो पर लगाम कसे-सुप्रीम कोर्ट
(प्रदीप महाजन) क्या सूचना के अधिकार का दुरुपयोग हो रहा है उसके जरिये ब्लैकमेलिंग और उगाही की जा रही है,सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि यह कानून ब्लैकमेल का धंधा बन गया है। जिसमें ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जब आरटीआई की जानकारी मांगने वाला इस कानून की आड़ में लोगों को ब्लैकमेल करके धमकाने या डराने का काम करता है। इस अधिनियम का दुरुपयोग ना हो इसके लिए दिशानिर्देश बनाए जाने की जरूरत है। 
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने  आरटीआई कार्यकर्ता अंजलि भारद्वाज की याचिका पर सुनवाई की, जिसमें केंद्र और राज्य सरकारों को सूचना आयुक्तों की नियुक्ति करने की गुहार लगाई गई है। इस दौरान याचिकाकर्ता के वकील प्रशांत भूषण ने जब मामले में कोर्ट के पूर्व आदेशों का हवाला दिया तो चीफ जस्टिस ने आरटीआई कानून के दुरुपयोग का मामला भी उठाया। चीफ जस्टिस ने कहा कि कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां इसका इस्तेमाल ब्लैकमेल करने के लिए किया गया है।
सुप्रीम कोर्ट चीफ जस्टिस ने टिप्पणी की कि आरटीआई आवेदन गलत मंशा के साथ भी दाखिल की जाती है। हम आरटीआई कानून के खिलाफ नहीं, लेकिन क्या जरूरी नहीं है कि इसके लिए दिशा निर्देश बने व इसके दुरुपयोग को रोके।READ STORY ON WWW.INSMEDIA.ORG

Back