पुलिस की पहल पर 61 लोगो को रोजगार मिला।      ‘प्रेस की स्वतंत्रता सर्वोपरि है लेकिन पत्रकारिता एक तरफा ना हो-सुप्रीम कोर्ट ।      दिल्ली पुलिस पर अब ठग है भारी, JT. कमिश्नर कटियार को चपत मारी।      पुलिस के खिलाफ खबरें चलाने पर 5 पत्रकारों पर यूपी पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट लगाया, 4 गिरफ्तार।      सीबीआई के 15 अधिकारी गृह मंत्राल अवार्ड से सम्मानित।      बदमाश को पकड़ने गए पुलिस वालों की आंखों पर मिर्ची डाली।      सूचना का अधिकार भ्रष्ट अधिकारियों पर नकेल कसता है- सुबोध गोस्वामी      बैखोफ बदमाशो ने पुलिस वालों को पीटा, घसीटा पिस्टल छीनी, बदमाश गिरफ्तार।      जम्मू कश्मीर के पहले उपराज्यपाल बने आईपीएस विजय कुमार।      मोदी जी कश्मीर मुद्दे पर सुतली बम ना बनना।      सीपी पटनायक ने दिल्ली में आंतकी हमले के मद्देनजर करी हाई लेवल मीटिंग।      सिपाही को अपनी रक्षा के लिए गोली चलानी पड़ी।      इंदिरापुरम थाने के 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड,कपल से मांगे 20 हजार रुपये।      पुलिस कस्टडी से फरार हुए भगोड़े आरोपी को दोबारा गिरफ्तार किया।      दिल्ली के उपराज्यपाल के PA से ठगी।       डॉक्टर को ब्लैकमेल करने वाले 2 युवतियों सहित 4 लोग गिरफ्तार।      श्रीनिवास बने युवा कांग्रेस के अध्यक्ष।      MLA से 3 करोड़ की रंगदारी मांगने वाला पत्रकार गिरफ्तार।            अभी दीवार गिरी, क्या निगम को इंतजार किसी बड़े हादसे का     

( 28/08/2019)  (Pradeep Mahajan) ‘प्रेस की स्वतंत्रता सर्वोपरि है लेकिन पत्रकारिता एक तरफा ना हो-सुप्रीम कोर्ट ।

 
‘प्रेस की स्वतंत्रता सर्वोपरि है लेकिन पत्रकारिता एक तरफा ना हो-सुप्रीम कोर्ट ।

‘प्रेस की स्वतंत्रता सर्वोपरि है लेकिन पत्रकारिता एक तरफा ना हो-सुप्रीम कोर्ट ।
(आईएनएस मीडिया)‘द वायर’ वेबसाइट और अमित शाह के बेटे जय शाह  के मानहानि मामले में ट्रायल कोर्ट की कार्यवाही पर रोक को हटा दी है. जय शाह ने पत्रकार रोहिणी सिंह के एक लेख को लेकर उन पर मानहानि का केस किया था. सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात की अदालत को आदेश दिया है कि वो जल्द से जल्द मामले की सुनवाई पूरी करें.
 सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश अरुण मिश्रा की तीन जजों की पीठ ने जय शाह द्वारा द वायर की पत्रकार रोहिणी सिंह पर लगाए मानहानि मामले में ट्रायल कोर्ट की कार्यवाही पर लगी रोक को हटाते हुए मीडिया पर खासकर वेब मीडिया को भी सलाह दी है, सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा, ‘प्रेस की स्वतंत्रता सर्वोपरि है लेकिन ये एक तरफा नहीं होना चाहिए।
 पीठ में जस्टिस अरुण मिश्रा के साथ जस्टिस एमआर शाह और जस्टिस बीआर गवई भी थे.द वायर की तरफ से वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट से कहा, ‘वो बिना किसी शर्त के अपने तीनों याचिका को वापस ले रहे हैं और वो ट्रायल को लेकर तैयार हैं.’
जय शाह की तरफ से वरिष्ठ वकील नीरज किशन कौल ने जल्दी ट्रायल पूरी होने पर जोर दिया और कहा, ‘उनके मुवक्किल को द वायर की तरफ से रात के 1 बजे सवाल भेजे गए और स्टोरी को अगले दिन शाम 6 बजे छाप दिया गया.’ अदालत ये जानना चाहती है कि इतने कम समय दिए जाने का क्या मकसद था और संस्थान को इससे क्या नुकसान हो रहा था.
अदालत ने सुनवाई के दौरान साफ किया कि वो सिर्फ महत्वपूर्ण पहलुओं की ही सुनवाई करेगा. अदालत ने यह भी कहा वो सिर्फ इस बात पर सुनवाई करेगा कि इस मामले में संस्था को कहां नुकसान हुआ है।जस्टिस मिश्रा ने सुनवाई में कहा कि पत्रकारिता सर्वोपरि है लेकिन एक तरफा नही होनी चाहिये।read story on www.insmedia.org

Back