चिड़ियाघर में पागल आदमी शेर के बाड़े में कूदा,जू प्रशासन ने बचाया।      ऑड-इवेन स्कीम में नियम तोड़ने पर 4000 रुपये जुर्माना,किनको मिलेगी छूट।      आयुर्जीवन के सम्पादक वैद्य ओम प्रकाश बने अखिल भारत ब्राह्मण महासभा के पूर्वी दिल्ली जिलाध्यक्ष।      घण्टो में पुलिस ने मोदी की भतीजी का लुटेरा दबोचा,मोदी है तो मुमकिन है।      पुलिस की पहल पर 61 लोगो को रोजगार मिला।      ‘प्रेस की स्वतंत्रता सर्वोपरि है लेकिन पत्रकारिता एक तरफा ना हो-सुप्रीम कोर्ट ।      दिल्ली पुलिस पर अब ठग है भारी, JT. कमिश्नर कटियार को चपत मारी।      पुलिस के खिलाफ खबरें चलाने पर 5 पत्रकारों पर यूपी पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट लगाया, 4 गिरफ्तार।      सीबीआई के 15 अधिकारी गृह मंत्राल अवार्ड से सम्मानित।      बदमाश को पकड़ने गए पुलिस वालों की आंखों पर मिर्ची डाली।      सूचना का अधिकार भ्रष्ट अधिकारियों पर नकेल कसता है- सुबोध गोस्वामी      बैखोफ बदमाशो ने पुलिस वालों को पीटा, घसीटा पिस्टल छीनी, बदमाश गिरफ्तार।      जम्मू कश्मीर के पहले उपराज्यपाल बने आईपीएस विजय कुमार।      मोदी जी कश्मीर मुद्दे पर सुतली बम ना बनना।      सीपी पटनायक ने दिल्ली में आंतकी हमले के मद्देनजर करी हाई लेवल मीटिंग।      सिपाही को अपनी रक्षा के लिए गोली चलानी पड़ी।      इंदिरापुरम थाने के 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड,कपल से मांगे 20 हजार रुपये।      पुलिस कस्टडी से फरार हुए भगोड़े आरोपी को दोबारा गिरफ्तार किया।      दिल्ली के उपराज्यपाल के PA से ठगी।       डॉक्टर को ब्लैकमेल करने वाले 2 युवतियों सहित 4 लोग गिरफ्तार।     

( 10/07/2019)  (Pradeep Mahajan) सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू- कश्मीर में धारा 370 की पीआईएल स्वीकार की केंद्र को नोटिस।

 
सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू- कश्मीर में धारा 370 की पीआईएल स्वीकार की केंद्र को नोटिस।

सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू- कश्मीर में धारा 370 की पीआईएल स्वीकार की केंद्र को नोटिस।
 (INSMEDIA.ORG)जम्मू-कश्मीर में लगी धारा 370 पर  उच्चतम न्यायालय(सुप्रीम कोर्ट) में एक PIL दायर की गई जिसको सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है और केंद्र सरकार को इस याचिका के लिए नोटिस भी जारी कर दिया है।गौरतलब है कि आर्टिकल 370 कई दशकों से भारतीय राजनीति का  मुद्दा रहा है। इस याचिका में आर्टिकल 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को दिए जा रहे स्पेशल पैकेज को चैलेंज किया गया है और धारा 370 को हटाने के लिये कहा है।
गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में लागू धारा 370 और 35A को हटाने के मुद्दे पर संसद से लेकर सड़क तक कई बार बहस हो चुकी है। सत्तारूढ़ बीजेपी का घोषणा पत्र इस मुद्दे के बिना कभी नही बना,वही जम्मू कश्मीर के नेता इन धाराओं को हटाने नही देना चाहते हैं ।
Read full story on www.insmedia.org

Back