बैखोफ बदमाशो ने पुलिस वालों को पीटा, घसीटा पिस्टल छीनी, बदमाश गिरफ्तार।      जम्मू कश्मीर के पहले उपराज्यपाल बने आईपीएस विजय कुमार।      मोदी जी कश्मीर मुद्दे पर सुतली बम ना बनना।      सीपी पटनायक ने दिल्ली में आंतकी हमले के मद्देनजर करी हाई लेवल मीटिंग।      सिपाही को अपनी रक्षा के लिए गोली चलानी पड़ी।      इंदिरापुरम थाने के 5 पुलिसकर्मी सस्पेंड,कपल से मांगे 20 हजार रुपये।      पुलिस कस्टडी से फरार हुए भगोड़े आरोपी को दोबारा गिरफ्तार किया।      दिल्ली के उपराज्यपाल के PA से ठगी।       डॉक्टर को ब्लैकमेल करने वाले 2 युवतियों सहित 4 लोग गिरफ्तार।      श्रीनिवास बने युवा कांग्रेस के अध्यक्ष।      MLA से 3 करोड़ की रंगदारी मांगने वाला पत्रकार गिरफ्तार।            अभी दीवार गिरी, क्या निगम को इंतजार किसी बड़े हादसे का      सीबीआई ने सीबीआई के ही 19 अफसरों पर मुकदमा दर्ज किया।      दिल्ली पुलिस के करप्ट और लापरवाह पुलिसवालों को जबरन रिटायर किया जाएगा।      घर बैठे चालान भरे,ई चालान सिस्टम अब शुरू-सीपी पटनायक।      22 पूर्व कैडेटों को मिला एनसीसी अचीवर्स अवार्ड 2019      MHA ने आईएएस,आईपीएस अधिकारियों की ट्रांसफर/पोस्टिंग की।      पुलिस को पीटने वाले उनको माँ बहन की गाली देने वालो के साथ पुलिस अधिकारी,अफसरों ने पुलिस का भय खत्म किया दिया।           

( 26/04/2019)  (Pradeep Mahajan) लवली की जीत में भितरघाती विभीषण सबसे बड़े रोड़े !

 
लवली की जीत में भितरघाती विभीषण सबसे बड़े रोड़े ! (आईएनएस मीडिया )दिल्ली की राजनीति के दिग्गज रहे एच के एल भगत,राम बाबू शर्मा, डॉ अशोक कुमार वालिया की छत्र छाया में नेता अरविंदर सिंह लवली ने अपना सितारा चमकाया और जनता में साख भी बनाई है जिसमे भगत और शर्मा जी अब इस दुनिया में नहीं रहे,वही डॉ अशोक वालिया से समय समय पर लवली सलाह लेता रहता है, लवली ने सारे गुर भगत,राम बाबू,वालिया से सीखे थे

जिसमे सबसे बड़ा गुर था कि विरोधियो को कैसे ठिकाने लगाया जाये और अपनी राजनीति में उन्होंने विरोधियो को तो ठिकाने लगाया ही साथ ही पूर्वी दिल्ली के कई कोंग्रेसी दावेदारों को भी ठिकाने लगा दिया था,गौरतलब है कि लवली को जहा कांग्रेस ने कई महत्वपूर्ण पदों पर बिठाया वही लवली ने नाराज होकर कांग्रेस पार्टी को इस्तीफा देकर बीजेपी का दामन थाम लिया था फिर कुछ अर्से बाद डॉ वालिया,हारून युसूफ,माकन आदि ने लवली की कांग्रेस में वापिसी कराई ,वही  आलाकामन ने अपना भरोसा जताते हुए अरविंदर सिंह लवली को पूर्वी दिल्ली लोकसभा का उम्मीदवार बनाया है, लेकिन वापिसी के बाद लवली के कई धुर विरोधी सक्रिय हो गए थे जिनसे लवली को इस चुनाव में बड़ा खतरा है ये जानते हुए भी लवली को उनको साथ लेकर चलना मजबूरी है क्योकि जनता में नहीं तो गलत संदेश जाएगा,परन्तु राजनितिक जानकारों का कहना है कि ये भितरघाती लवली को बड़ा नुक्सान दे सकते है,जब इस बात पर बात की तो उनका कहना है कि विश्वास से बड़ी कोई बात नहीं होती वही वरिष्ठ नेता और उनके राजनैतिक गुरु डॉ अशोक वालिया का मानना है कि पार्टी के विरोधी हर पार्टी में होते है और उनका ये ही इलाज है कि चुनाव में उनको कोई भी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी ना दी जाए जिससे पार्टी और उम्मीदवार को कोई नुकसान हो,अब ये तो आने वाला समय बताएगा कि चुनावी ऊठ किस ओर बैठेगा I   

Back