दिल्ली में 24 घण्टो में 990 कोरोना केस आये, 21 हजार के करीब आंकड़ा हुआ। देश भर मे 1,90,535 मरीज हुए।      देश की राजधानी दिल्ली में एक दिन में कोरोना मरीजो की बेतहाशा वृद्धि ,करीब 1300 मरीजो के साथ आंकड़ा 20 हजार के करीब हुआ। देश मे 182143 मरीज हुए।      दिल्ली पुलिस ने खोए दो दिनों में अपने दो जांबाज अधिकारी, कल ASI शेष मणि के बाद आज ASI विक्रम यादव की मौत।      केजरीवाल सरकार ने केंद्र सरकार से 5000 करोड़ रुपये मांगे कहा कर्मचारियों को सैलरी देने का संकट है।      दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच में तैनात असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर की कोरोना से मौत।      महंत सुरेश शर्मा सहित सभी सन्त महात्माओं ने धार्मिक स्थलों को खोलने के फैसले का स्वागत किया।      दिल्ली में नही रुकी रफ्तार आज 1163 केस सामने आए,भारत मे पौने दो लाख के करीब मरीज हुए।      निकाह के लिये पूर्व निगम पार्षदा इशरत जहां को मिली अंतरिम जमानत।      नही थमी दिल्ली में रफ्तार, एक दिन में 1106 कोरोना केस आये,भारत मे 1,65,799 कोरोना मरीज हुए। संक्रमित देशों की सूची में भारत नौवें स्थान पर ।            दिल्ली में कोरोना के 1024 नए केस आने से हड़कंप, देश भर में कोरोना के 1,58,333 मरीज हुए।      पालिका केंद्र और शहीद भगत सिंह प्लेस को कर्मचारियों के कोरोना वायरस संक्रमित होने के बाद सील किया गया।      दिल्ली पुलिस कर्मी सिंघम, दबंग ना बने तनावपूर्ण डयूटी ना करे,कोरोना किसी का सगा नही बचाव रखे।      उत्तरी दिल्ली की डीसीपी भी कोरोना पॉजिटिव हुई। करीब 500 पुलिसकर्मी,7 एसएचओ और 2 आईपीएस अब तक कोरोना की चपेट में।      अस्पताल की मुफ्त जमीन लेने वाले क्यो नही कोरोना पीड़ितों का मुफ्त या कम फीस लेकर ईलाज करते-सुप्रीम कोर्ट      सीबीआई ने चावल कम्पनी के तीन निदेशकों पर स्टेट बैंक की शिकायत पर 100 करोड़ के नुकसान का केस दर्ज किया।      दिल्ली में कोरोना मरीजो ने भरी बड़ी उछाल एक दिन में 800 के करीब केस आये,दिल्ली में संख्या 15 हजार से ऊपर पहुची, भारत मे कोरोना मरीजो ने डेढ़ लाख का आंकड़ा पार किया,अबतक 4337 की मौत हुई।      ये क्या हो रहा है सीपी साब.. AC कमरों से बाहर निकालो अधिकारी,कैसे कोरोना और लोगो से माँ बहन की गाली खाकर लाईन हाजिर हो रही है पुलिस..      दिल्ली में 24 घण्टो में 412 मरीज आये ,कुल 14465 मरीज हुए। देश भर में मरीजो का आंकड़ा 145380 पहुचा वही रिकवरी रेट 41.61प्रतिशत हुआ।      दिल्ली में 24 घण्टो में 635 कोरोना मरीजों के साथ आंकड़ा पहुचा 14 हजार से ऊपर,भारत मे कोरोना मरीजों ने पकड़ी रफ्तार एक दिन में 7 हजार के साथ 1,38,845 मरीज हुए।     

( 25/08/2015)  (Pradeep Mahajan) फिल्में बनाना बच्चों का खेल नहीं : मारवाह

 
नोएडा। शार्ट डिजिटल फिल्म फेस्टिवल अपने आप में एक ऐसा फेस्टिवल है जिसमे आप अपनी कल्पनाओ को चंद मिनटों में समेट कर उसे फिल्मी जामा पहना सकते हो साथ ही नई तकनीक भी सीख सकते हो, यह कहना था पूर्व विधायक विजय जॉली का। जो की मारवाह स्टूडियो में चल रहे 87 वें शार्ट डिजिटल फिल्म फेस्टिवल का उद्घाटन करने आये उन्होंने कहा को जो भी फिल्मे यहाँ दिखाई गयी है काफी प्रेरक तो है ही साथ ही आज की समस्याओ को भी उजागर करती हैं।

इस समारोह में कई गणमान्य अतिथि भी पहुंचे जिसमे इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया की डायरेक्टर मालती सहाय, बास्केटबॉल एसोसिएशन के अध्यक्ष जय शंकर मेनन, आशुतोष आहलुवालिया, मालदीप की अभिनेत्री नूमा मोहम्मद, निर्माता विप्लव मल्होत्रा और एक्टर मुकेश त्यागी। जिनका स्वागत करते हुए संदीप मारवाह ने कहा की हमारे छात्र छोटी से  छोटी  फिल्म बनाने के लिए भी बड़ी से बड़ी तकनीक को जानते है और पहचानते है और मुझे गर्व है हमारे छात्रों ने छोटी अवधि की फिल्मो को भी इतना जानदार और बेहतरीन बनाया है। हमारे पास 200 फिल्मो की एंट्री आई जिसमे से कुछ चुनिंदा फिल्मो को ही हमने स्क्रीन पर दिखाया।
इस अवसर पर  मालती सहाय ने कहा की मैं मारवाह स्टूडियो से काफी समय से जुड़ी हुई हुँ और मुझे यहाँ आकर बहुत खुशी मिलती है पहले कहा जाता था कि फिल्म बनाना बच्चो का खेल नही है पर यहाँ की फिल्मो को देखकर लगता है कि उन्होंने खेल खेल में ही इतनी बेहतरीन फिल्में बना दी है। बास्केटबॉल एसोसिएशन के अध्यक्ष जय शंकर मेनन ने कहा कि मैं तो शुरू से ही खेलो से जड़ा हुं और मैं चाहता हुं कि खेलो पर भी ज्यादा से ज्यादा फिल्में बने खासतौर से बास्केट बॉल पर। मालदीप की अभिनेत्री नूमा मोहम्मद ने कहा हमारे यहां के लोग हिंदी फिल्मों को देखकर ही थोड़ी हिंदी बोलना सीखते है और हमारे यहाँ हिंदी को काफी पसंद भी किया जाता है।
एक्टर मुकेश त्यागी ने कहा की फिल्मे हमारे जीवन का आईना होती है और यहाँ आकर मुझे बहुत खुशी हुई की बच्चो को शार्ट फिल्मे बनाने और अपनी कला को निखारने का पूरा अवसर मिल रहा है। समारोह में दिखाई गयी कुछ फिल्मो में निर्देशक तिरुपति की 3 मिनट की फिल्म नेशनल एंथम व 11 मिनट की अग्नि, निर्देशक सुगंधा की 7 मिनट की ताज महल, निर्देशक जील शुक्ला की द रिआलिजेशन और निर्देशक मुक्ता की आसरा। अंत में आये हुए सभी अतिथियों को संदीप मारवाह ने इंटरनेशनल फिल्म एंड टेलीविजन क्लब की आजीवन सदस्यता प्रदान की।
 

Back